Hindi Shayari हिन्दी शायरी Latest New Shayari in Hindi 2020

Hindi Shayari syari.in
Hindi Shayari

Hindi Shayari हिन्दी शायरी: Check Latest New Shayari in Hindi, Hindi Shayari Quotes, Hindi Shayari for Love, Hindi Shayari Status, Hindi Shayari Images, Hindi Shayari Love, Hindi Shayari Collection, Hindi Shayari Sad, Best Hindi Shayari, Hindi Shayari Dosti, Love Hindi Shayari, Hindi Shayari in English, Hindi Shayari on Life, Hindi Shayari Status, Hindi Shayari Images, etc.

Hindi Shayari हिन्दी शायरी Latest New Shayari in Hindi

Jo Teer Bhi Aata Woh Khaali Nahi Jata,
Mayoos Mere Dil Se Sawali Nahi Jata,
Kaante Hi Kiya Karte Hain Phoolo Ki Hifazat,
Phoolo Ko Bachane Koi Maali Nahi Aata.

जो तीर भी आता वो खाली नहीं जाता,
मायूस मेरे दिल से सवाली नहीं जाता,
काँटे ही किया करते हैं फूलों की हिफाज़त,
फूलों को बचाने कोई माली नहीं जाता।

Hindi Shayari on Life

Waqt Kahta Hai Ki Phir Na Aaunga,
Teri Aankhon Ko Ab Na Rulaunga,
Jeena Hai Toh Iss Pal Ko Jeele,
Shayad Main Kal Tak Na Ruk Paunga.

वक्त कहता है कि फिर नहीं आऊंगा,
तेरी आँखों को अब न रुलाऊंगा।
जीना है तो इस पल को जी ले,
शायद मैं कल तक न रुक पाऊंगा।

Na Jaane Kitni Ankahi Baatein,
Kitni Hasrate Saath Le Jayenge,
Log Jhoothh Kehte Hain Ke,
Khali Haath Aaye The Aur Khali Haath Jayenge.

ना जाने कितनी अनकही बातें,
कितनी हसरतें साथ ले जाएगें
लोग झूठ कहते हैं कि
खाली हाथ आए थे और खाली हाथ जाएगें।

Rahat Indori Hindi Shayari

Ab Na Main Hun, Na Baaki Hai Zamane Mere,
Fir Bhi MashHoor Hain Shaharon Mein Fasane Mere,
Zindagi Hai Toh Naye Zakhm Bhi Lag Jayenge,
Ab Bhi Baaki Hain Kayi Dost Puraane Mere.

अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​,
फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे​,
ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे​,
अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।

Loo Bhi Chalti Thi Toh Baad-e-Shaba Kehte The,
Paanv Failaye Andheron Ko Diya Kehte The,
Unka Anjaam Tujhe Yaad Nahi Hai Shayad,
Aur Bhi Log The Jo Khud Ko Khuda Kehte The.

लू भी चलती थी तो बादे-शबा कहते थे,
पांव फैलाये अंधेरो को दिया कहते थे,
उनका अंजाम तुझे याद नही है शायद,
और भी लोग थे जो खुद को खुदा कहते थे।

Haath Khali Hain Tere Shahar Se Jate Jate,
Jaan Hoti Toh Meri Jaan Lutate Jate,
Ab Toh Har Haath Ka Patthar Humein Pehchanta Hai,
Umr Gujri Hai Tere Shahar Mein Aate Jate.

हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते,
अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते।

Chehron Ke Liye Aayine Kurbaan Kiye Hain,
Iss Shauk Mein Apne Bade Nuksaan Kiye Hain,
Mehfil Mein Mujhe Gaaliyan Dekar Hai Bahut Khush,
Jis Shakhs Par Maine Bade Ehsaan Kiye Hain.

चेहरों के लिए आईने कुर्बान किये हैं,
इस शौक में अपने बड़े नुकसान किये हैं,​
महफ़िल में मुझे गालियाँ देकर है बहुत खुश​,
जिस शख्स पर मैंने बड़े एहसान किये है।

Teri Har Baat Mohabbat Mein Ganwara Karke,
Dil Ke Bajaar Mein Baithe Hain Khasaara Karke,
Main Woh Dariya Hun Ke Har Boond Bhanwar Hai Jiski,
Tumne Achha Hi Kiya Hai Mujhse Kinaara Karke.

​तेरी हर बात ​मोहब्बत में गँवारा करके​,
​दिल के बाज़ार में बैठे हैं खसारा करके​,
​मैं वो दरिया हूँ कि हर बूंद भंवर है जिसकी​,​​
​तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके।

Aankhon Mein Pani Rakho Hontho Pe Chingari Rakho,
Zinda Rahna Hai Toh Tarkeebein Bahut Saari Rakho,
Ek Hi Nadi Ke Hain Yeh Do Kinare Dosto,
Dostana Zindagi Se Maut Se Yaari Rakho.

आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो,
ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो,
एक ही नदी के हैं ये दो किनारे दोस्तो,
दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो।

Ajeeb Log Hain Meri Talash Mein Mujhko,
Wahan Par Dhoondh Rahe Hain Jahan Nahi Hun Main,
Main Aayino Se Toh Mayoos Laut Aaya Hun,
Magar Kisi Ne Bataya Bahut Haseen Hun Main.

Hindi Shayari by Rahat Indori Shayari
Rahat Indori Hindi Shayari

अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझको,
वहाँ पर ढूंढ रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं,
मैं आईनों से तो मायूस लौट आया था,
मगर किसी ने बताया बहुत हसीं हूँ मैं।

Ajnabi Khwahishein Seene Mein Daba Bhi Na Sakun,
Aise Ziddi Hain Parinde Ke Uda Bhi Na Sakun,
Foonk Dalunga Kisi Roj Main Dil Ki Duniya,
Yeh Tera Khat To Nahi Ke Jala Bhi Na Sakun.

अजनबी ख़्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूँ,
ऐसे ज़िद्दी हैं परिंदे कि उड़ा भी न सकूँ,
फूँक डालूँगा किसी रोज़ मैं दिल की दुनिया,
ये तेरा ख़त तो नहीं है कि जला भी न सकूँ।

Roj Taaron Ki Numaaish Mein Khalal Padta Hai,
Chand Pagal Hai Andhere Mein Nikal Padta Hai,
Roj Patthar Ki Himayat Mein Ghazal Likhte Hain,
Roj Sheeshon Se Koi Kaam Nikal Padta Hai.

रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है,
चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है,
रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं,
रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है।

Use Ab Ke Wafaon Se Gujar Jaane Ki Jaldi Thi,
Magar Iss Baar Mujhko Apne Ghar Jaane Ki Jaldi Thi,
Main Aakhir Kaun Sa Mausam Tumhare Naam Kar Deta,
Yehan Har Ek Mausam Ko Gujar Jaane Ki Jaldi Thi.

उसे अब के वफ़ाओं से गुजर जाने की जल्दी थी,
मगर इस बार मुझ को अपने घर जाने की जल्दी थी,
मैं आखिर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता,
यहाँ हर एक मौसम को गुजर जाने की जल्दी थी।

Haath Khali Hain Tere Shehar Se Jaate-Jaate,
Jaan Hoti Toh Meri Jaan Lutate Jaate,
Ab Toh Har Haath Ka Pathar Humein Pehchanta Hai,
Umar Gujri Hai Tere Shehar Mein Aate Jaate.

हाथ खाली हैं तेरे शहर से जाते-जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते,
अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
उम्र गुजरी है तेरे शहर में आते जाते।

Maine Apni Khushk Aankhon Se Lahoo Chalka Diya,
Ik Samandar Keh Raha Tha Mujhko Paani Chahiye.

मैंने अपनी खुश्क आँखों से लहू छलका दिया,
इक समंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए।

Bahut Guroor Hai Dariya Ko Apne Hone Par,
Jo Meri Pyaas Se Uljhe Toh Dhajjiyan Ud Jayein.

बहुत गुरूर है दरिया को अपने होने पर,
जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जाएँ।

Aate Jate Hain Kayi Rang Mere Chehre Par,
Log Lete Hain Mazaa Zikr Tumhara Kar Ke.

आते जाते हैं कई रंग मेरे चेहरे पर,
लोग लेते हैं मजा ज़िक्र तुम्हारा कर के।

Hindi Shayari for Love

Kahin Behtar Hai Teri Ameeri Se Muflisi Meri,
Chand Sikkon Ki Khaatir Tune Kya Nahi Khoya Hai,
Mana Nahi Hai Makhmal Ka Bichhauna Mere Paas,
Par Tu Yeh Bataa Kitni Raatein Chain Se Soya Hai.

कहीं बेहतर है तेरी अमीरी से मुफलिसी मेरी,
चंद सिक्कों की खातिर तूने क्या नहीं खोया है,
माना नहीं है मखमल का बिछौना मेरे पास,
पर तू ये बता कितनी रातें चैन से सोया है।

Hindi Shayari for Love
Hindi Shayari for Love

Usko Rukhsat Toh Kiya Tha Mujhe Malum Na Tha,
Sara Ghar Le Jayega Ghar Chhod Ke Jaane Wala,
Ik Musafir Se Safar Jaisi Hai Sab Ki Duniya,
Koi Jaldi Toh Koi Der Se Jaane Wala.

उसको रुखसत तो किया था मुझे मालूम न था,
सारा घर ले गया घर छोड़ के जाने वाला,
इक मुसाफिर के सफर जैसी है सब की दुनिया,
कोई जल्दी में कोई देर से जाने वाला।

Yaar Toh Ayina Hua Karte Hain Yaaron Ke Liye,
Tera Chehra Toh Abhi Tak Hai Naqaabon Wala,
Mujhse Hogi Nahi Duniya Ye Tizarat Dil Ki,
Main Karoon Kya Mera Jahaan Hai Khwabon Wala.

यार तो आइना हुआ करते हैं यारों के लिए,
तेरा चेहरा तो अभी तक है नकाबों वाला,
मुझसे होगी नहीं दुनिया ये तिजारत दिल की,
मैं करूँ क्या कि मेरा जहान है ख्वाबों वाला।

Hindi Shayari Love

Humara Zikr Bhi Ab Jurm Ho Gaya Hai Wahan,
Dino Ki Baat Hai Mefil Ki Aabru Hum The,
Khayal Tha Ke Yeh Pathrav Rok Dein Chal Kar,
Jo Hosh Aaya Toh Dekha Lahu Lahu Hum The.

हमारा ज़िक्र भी अब जुर्म हो गया है वहाँ,
दिनों की बात है महफ़िल की आबरू हम थे,
ख़याल था कि ये पथराव रोक दें चल कर,
जो होश आया तो देखा लहू लहू हम थे।

Iss Shahar Ki Bheed Mein Chehre Saare Ajnabi,
Rahnuma Hai Har Koi Par Rasta Koi Nahi,
Apni Apni Kismaton Ke Sabhi Maare Yahan,
Ek-Duje Se Kisi Ka Wasta Koi Nahi.

Hindi Shayari Love
Hindi Shayari Love

इस शहर की भीड़ में चेहरे सारे अजनबी,
रहनुमा है हर कोई, पर रास्ता कोई नहीं,
अपनी-अपनी किस्मतों के सभी मारे यहाँ,
एक-दूजे से किसी का वास्ता कोई नहीं।

Dilon Ki Band Khidki Kholna Ab Zurm Jaisa Hai,
Bhari Mehfil Mein Sach Bolna Ab Zurm Jaisa Hai,
Har Ek Jyadti Ko Sahen Kar Lo Chupchap,
Shahar Mein Iss Tarah Se Cheekhna Zurm Jaisa Hai.

दिलों की बंद खिड़की खोलना अब जुर्म जैसा है,
भरी महफिल में सच बोलना अब जुर्म जैसा है,
हर एक ज्यादती को सहन कर लो चुपचाप,
शहर में इस तरह से चीखना जुर्म जैसा है।

Hindi Shayari Collection

Jaruri Toh Nahi Jeene Ke Liye Sahara Ho,
Jaruri Toh Nahi Hum Jinke Hain Woh Humara Ho,
Kuchh Kashtiya Doob Bhi Jaya Karti Hai,
Jaruri Toh Nahi Har Kashti Ka Kinara Ho.

जरुरी तो नहीं जीने के लिए सहारा हो,
जरुरी तो नहीं हम जिनके हैं वो हमारा हो,
कुछ कश्तियाँ डूब भी जाया करती हैं,
जरुरी तो नहीं हर कश्ती का किनारा हो।

Kashti Hai Purani Magar Dariya Badal Gaya,
Meri Talash Ka Bhi Toh Jariya Badal Gaya,
Na Shakl Badli Na Hi Badla Mera Kirdar,
Bas Logo Ke Dekhne Ka Najariya Badal Gaya.

Hindi Shayari Collection
Hindi Shayari Collection

कश्ती है पुरानी मगर दरिया बदल गया,
मेरी तलाश का भी तो जरिया बदल गया,
न शक्ल बदली न ही बदला मेरा किरदार,
बस लोगों के देखने का नजरिया बदल गया।

Kafiron Ko Kabhi Bhi Jannat Nahi Milti,
Yahi SochKar Humse Mohabbat Nahi Milti,
Koi Shaakh Se Tode Tumhein Toh Toot Jana Tum,
Khud-Ba-Khud Toote Toh Izzat Nahi Milti.

काफिरों को कभी भी जन्नत नहीं मिलती,
यही सोचकर हमसे मोहब्बत नहीं मिलती,
कोई शाख से तोड़े तुम्हें तो टूट जाना तुम,
खुद-ब-खुद टूटे तो इज्जत नहीं मिलती।

Ab Aayein Ya Na Aayein Idhar Puchhte Chalo,
Kya Chahti Hai Unki Najar Puchhte Chalo,
Hum Se Agar Hai Tark-e-Talluq Toh Kya Hua,
Yaaro Koi Toh Unki Khabar Puchhte Chalo.

अब आयें या न आयें इधर पूछते चलो,
क्या चाहती है उनकी नजर पूछते चलो,
हम से अगर है तर्क-ए-ताल्लुक तो क्या हुआ,
यारो कोई तो उनकी खबर पूछते चलो।

Jo Baat Munaasib Hai Wo Hasil Nahi Karte,
Jo Apni Girah Mein Hai Wo Kho Bhi Rahe Hain,
Be-ilm Bhi Hum Log Hain Gaflat Bhi Hai Teri,
Afsos Ke Andhe Bhi Hain Aur So Bhi Rahe Hain.

जो बात मुनासिब है वो हासिल नहीं करते,
जो अपनी गिरह में हैं वो खो भी रहे हैं,
बे-इल्म भी हम लोग हैं ग़फ़लत भी है तेरी,
अफ़सोस कि अंधे भी हैं और सो भी रहे हैं।

Best Hindi Shayari

Khamoshi Se Bikharna Aa Gaya Hai,
Humein Ab Khud Ujadna Aa Gaya Hai,
Kisi Ko Bewafa Kehte Nahi Hum,
Humein Bhi Ab Badlna Aa Gaya Hai,
Kisi Ki Yaad Mein Rote Nahi Hum,
Humein Chup Chap Jalna Aa Gaya Hai,
Gulaabon Ko Tum Apne Pass Hi Rakho,
Humein Kaanton Pe Chalna Aa Gaya Hai.

खामोशी से बिखरना आ गया है,
हमें अब खुद उजड़ना आ गया है,
किसी को बेवफा कहते नहीं हम,
हमें भी अब बदलना आ गया है,
किसी की याद में रोते नहीं हम,
हमें चुपचाप जलना आ गया है,
गुलाबों को तुम अपने पास ही रखो,
हमें कांटों पे चलना आ गया है।

Waqt Noor Ko Benoor Kar Deta Hai,
Chhote se Zakhm Ko Nasoor Kar Deta Hai,
Kaun Chahta Hai Apno Se Dur Rehna,
Par Waqt Sabko Majboor Kar Deta Hai.

वक़्त नूर को बेनूर कर देता है,
छोटे से जख्म को नासूर कर देता है,
कौन चाहता है अपनों से दूर रहना,
पर वक़्त सबको मजबूर कर देता है।

Best Hindi Shayari
Best Hindi Shayari

Kisi Ko Dil Diwana Pasand Hai,
Kisi Ko Dil Ka Najrana Pasand Hai,
Auron Ki Toh Khabar Nahi Lekin,
Mujhe Toh Apno Ka Muskurana Pasand Hai.

किसी को दिल दीवाना पसंद है,
किसी को दिल का नजराना पसंद है,
औरों की तो मुझे ख़बर नही लेकिन,
मुझे तो अपनो का मुस्कुराना पसंद है।

Waqt Ka Pata Nahi Chalta Apno Ke Saath,
Par Apno Ka Pata Chalta Hai Waqt Ke Saath,
Waqt Nahi Badalta Apno Ke Saath,
Par Apne Jarur Badal Jate Hain Waqt Ke Saath.

वक़्त का पता नहीं चलता अपनों के साथ,
पर अपनों का पता चलता है वक़्त के साथ,
वक़्त नहीं बदलता अपनों के साथ,
पर अपने ज़रूर बदल जाते हैं वक़्त के साथ।

Ek Ajeeb Si Daud Hai Yeh Zindgi,
Jeet Jao Toh Kayi Apne Pichhe Chhut Jate Hain,
Aur Haar Jao Toh Apne Hi Pichhe Chhod Jate Hain.

एक अजीब सी दौड़ है ये ज़िन्दगी,
जीत जाओ तो कई अपने पीछे छूट जाते हैं,
और हार जाओ तो अपने ही पीछे छोड़ जाते हैं।

Hone Wale Khud Hi Apne Ho Jaate Hain,
Kisi Ko Kah Kar Apna Banaya Nahi Jata.
होने वाले ख़ुद ही अपने हो जाते हैं,
किसी को कहकर अपना बनाया नहीं जाता।

Mujhe Gumaan Tha Ke Chaha Bahut Sabne Mujhe,
Main Azeez Sabko Tha Magar Jarurat Ke Liye.

मुझे गुमान था कि चाहा बहुत सबने मुझे,
मैं अज़ीज़ सबको था मगर ज़रूरत के लिए।

So Ja Aye Dil Ke Ab Bahut Dhundh Hai Tere Shahar Mein,
Apne Dikhte Nahi Aur Jo Dikhte Hain Woh Apne Nahi.

सो जा ऐ दिल कि अब धुन्ध बहुत है तेरे शहर में,
अपने दिखते नहीं और जो दिखते हैं वो अपने नहीं।

Kuchh Log Toh Isliye Apne Bane Hain Abhi,
Ke Meri Barbadi Ka Deedar Kareeb Se Ho.

कुछ लोग तो इसलिये अपने बने हैं अभी,
कि मेरी बर्बादी का दीदार करीब से हो।

Hindi Shayari Dosti- Two Line Hindi Shayari

Na Jee Bhar Ke Dekha Na Kuchh Baat Ki,
Badi Aarzoo Thi Mulaqat Ki,

न जी भर के देखा न कुछ बात की,
बड़ी आरज़ू थी मुलाक़ात की।

Kayi Saal Se Kuchh Khabar Hii Nahi,
Kahaan Din Gujara Kahaan Raat Ki,

कई साल से कुछ ख़बर ही नहीं,
कहाँ दिन गुज़ारा कहाँ रात की।

Ujalon Ki Pariya Nahane Lagi,
Nadi Gungunayi Khyalat Ki,

उजालों की परियाँ नहाने लगीं,
नदी गुनगुनाई ख़यालात की।

Main Chup Tha Toh Chalti Hawaa Ruk Gayi,
Zubaan Sab Samajhte Hain Jazbaat Ki,

मैं चुप था तो चलती हवा रुक गई,
ज़ुबाँ सब समझते हैं जज़्बात की।

Sitaron Ko Shayad Khabar Hii Nahin,
Musafir Ne Jaane Kahaan Raat Ki,

सितारों को शायद ख़बर ही नहीं,
मुसाफ़िर ने जाने कहाँ रात की।

Muqaddar Mere Chashm-e-Pur Ab Ka,
Barsati Huyi Raat Barsaat Ki.

मुक़द्दर मेरे चश्म-ए-पुर अब का,
बरसती हुई रात बरसात की।

Two Line Hindi Shayari
Two Line Hindi Shayari

Ek Chehra Jo Mere Khwaab Sajaa Deta Hai,
Mujh Ko Mere Hi Khayaalon Mein Sadaa Deta Hai,

एक चेहरा जो मेरे ख्वाब सजा देता है,
मुझ को मेरे ही ख्यालों में सदा देता है।

Wo Mera Kaun Hai Maloom Nahi Hai Lekin,
Jub Bhi Milta Hai To Pehlu Mein Jagaha Deta Hai,

वो मेरा कौन है मालूम नहीं है लेकिन,
जब भी मिलता है तो पहलू में जगा देता है।

Mein Jo Andar Se Kabhi Toot Ke Bikhrun,
Wo Mujh Ko Thaamne Ke Liye Haath Bada Deta Hai,

मैं जो अन्दर से कभी टूट के बिखरूं,
वो मुझ को थामने के लिए हाथ बढ़ा देता है।

Main Jo Tanha Kabhi Chupke Se Bhi Rona Chaahun,
To Dil Ke Darwaaze Ki Zanjeer Hila Deta Hai

मैं जो तनहा कभी चुपके से भी रोना चाहूँ,
तो दिल के दरवाज़े की ज़ंजीर हिला देता है।

Uss Ki Qurbat Mein Hai Kya Baat Na Jaane Mohsin,
Ek Lamhe Ke Liye Sadiyon Ko Bhula Deta Hai.

उस की कुर्बत में है क्या बात न जाने मोहसिन,
एक लम्हे के लिए सदियों को भुला देता है।

Main Khil Nahi Saka Ki Mujhe Nam Nahi Mila,
Saqi Mere Mizaaj Ka Mausam Nahi Mila.

मैं खिल नहीं सका कि मुझे नम नहीं मिला,
साक़ी मिरे मिज़ाज का मौसम नहीं मिला।

Mujh Mein Basi Huyi Thi Kisi Aur Ki Mehak,
Dil Bujh Gaya Ki Raat Woh Barhum Nahi Mila.

मुझ में बसी हुई थी किसी और की महक,
दिल बुझ गया कि रात वो बरहम नहीं मिला।

Bas Apne Samne Zara Aankhein Jhuki Rahi,
Varna Meri Anaa Mein Kahin Kham Nahi Mila.

बस अपने सामने ज़रा आँखें झुकी रहीं,
वर्ना मिरी अना में कहीं ख़म नहीं मिला।

Uss Se Tarah Tarah Ki Shikayat Rahi Magar,
Meri Taraf Se Ranj Use Kam Nahi Mila.

उस से तरह तरह की शिकायत रही मगर,
मेरी तरफ़ से रंज उसे कम नहीं मिला।

Ek Ek Kar Ke Log Bichhadate Chale Gaye,
Yeh Kya Hua Ke Wakfa-E-Matam Nahi Mila.

एक एक कर के लोग बिछड़ते चले गए,
ये क्या हुआ कि वक़्फ़ा-ए-मातम नहीं मिला।

Nazar Mein Zakham-e-Tabassum Chhupa Chhupa Ke Mila,
Khafa Toh Tha Woh Magar Mujh Se Muskura Ke Mila,

नज़र में ज़ख़्म-ए-तबस्सुम छुपा छुपा के मिला,
खफा तो था वो मगर मुझ से मुस्कुरा के मिला।

Wo Hamsafar Ke Mere Tanz Pe Hansa Tha Bohat,
Sitam Zareef Mujhe Aaina Dikha Ke Mila,

वो हमसफ़र कि मेरे तंज़ पे हंसा था बहुत,
सितम ज़रीफ़ मुझे आइना दिखा के मिला।

Mere Mizaaj Pe Hairaa.n Hai Zindagi Ka Shaoor,
Mein Apni Mout Ko Aksar Galay Laga Ke Mila,

मेरे मिज़ाज पे हैरान है ज़िन्दगी का शऊर,
मैं अपनी मौत को अक्सर गले लगा के मिला।

Mein Os Se Maangta Kia Khoon Bahaa Jawaani Ka,
Ke Wo Bhi Aaj Mujhe Apna Ghar Luta Ke Mila,

मैं उस से मांगता क्या? खून बहा जवानी का,
कि वो भी आज मुझे अपना घर लुटा के मिला।

Mein Jis Ko Dhoond Raha Tha Nazar Ke Rastay Mein,
Mujhe Mila Bhi Tou Zaalim Nazar Jhuka Ke Mila,

मैं जिस को ढूँढ रहा था नज़र के रास्ते में,
मुझे मिला भी तो ज़ालिम नज़र झुका के मिला।

Mein Zakham Zakham Badan Le Ke Chal Dya Mohsin,
Wo Jub Bhi Apni Qabaa Per Kanwal Sajaa Ke Mila.

मैं ज़ख़्म ज़ख़्म बदन ले के चल दिया मोहसिन,
वो जब भी अपनी काबा पर कँवल सजा के मिला।

Jin Ke Aangan Mein Ameeri Ka Shajar Lagta Hai,
Unka Har Aib Bhi Jamane Ko Hunar Lagta Hai.

जिन के आंगन में अमीरी का शजर लगता है,
उन का हर एब भी जमानें को हुनर लगता है।

Sari Galti Hum Apni Kismat Ki Kaise Nikal Dein
Kuchh Sath Humara Teri Ameeri Ne Bhi Toda Hai.

सारी गलती हम अपनी किस्मत की कैसे निकल दें,
कुछ साथ हमारा तेरी अमीरी ने भी तोडा है।

Tumse Mila Tha Pyar Kuchh Achhe Naseeb The,
Hum Unn Dino Ameer The Jab Tum Gareeb The.

तुमसे मिला था प्यार कुछ अच्छे नसीब थे,
हम उन दिनों अमीर थे जब तुम गरीब थे।

Kaise Banega Ameer Wo Hisaab Ka Kachha Bhikhari,
Ek Sikke Ke Badle Jo Besh-Keemti Duaayen Deta Hai.

कैसे बनेगा अमीर वो हिसाब का कच्चा भिखारी,
एक सिक्के के बदले जो बेशकीमती दुआये दे देता है।

Ameeron Ke Liye Beshaq Tamasha Hai Ye Jaljala,
Gareeb Ke Sar Pe To Aasmaan Tutaa Hoga.

अमीरों के लिए बेशक तमाशा है ये जलजला,
गरीब के सर पे तो आसमान टूटा होगा।

Dil Ki Dahleej Par Yaadon Ke Deeye Rakhe Hain,
Aaj Tak Hum Ne Yeh Darwaaje Khule Rakhe Hain,

दिल की दहलीज पर यादों के दिए रखें हैं,
आज तक हम ने ये दरवाजे खुले रखे हैं।

Iss Kahani Ke Woh Kirdar Kahan Se Laaun,
Wohi Dariya Hai Wohi Kachche Ghade Rakhe Hain,

इस कहानी के वो किरदार कहाँ से लाऊं,
वो ही दरिया है वो ही कच्चे घड़े रखे हैं।

Hum Par Jo Gujri Bataya Na Batayenge Kabhi,
Kitne Khat Ab Bhi Tere Likhe Huye Rakhe Hain,

हम पर जो गुजरी बताया न बताएँगे कभी,
कितने ख़त अब भी तेरे लिखे हुए रखे हैं।

Aapke Paas Kharidari Ki Kuwwat Hai Agar,
Aaj Sab Log Dukaano Mein Saje Rakhe Hain.

आपके पास खरीदारी की कुव्वत है अगर,
आज सब लोग दुकानों में सजे रखे हैं।

Hindi Shayari in English

Ab Toh Ghabara Ke Yeh Kehte Hain Ke Mar Jayenge,
Mar Ke Bhi Chain Na Paaya Toh Kidhar Jayenge.

Tum Ne Thehrayi Agar Gair Ke Ghar Jaane Ki,
Toh Iraade Yahan Kuchh Aur Thahar Jayenge.

Ham Nahin Woh Jo Karein Khoon Ka Daava Tujh Par,
Balqi Poochhega Khuda Bhi Toh Mukar Jayenge.

Aag Dozakh Ki Bhi Ho Jayegi Pani Pani,
Jab Yeh Aasi Arq-E-Sharm Se Tar Jayenge.

Shola-E-Aah Ko Bijli Ki Tarah Chamkaun,
Par Mujhe Darr Hai Ki Woh Dekh Kar Darr Jayenge.

Laye Jo Mast Hain Turbat Pe Gulabi Aankhein,
Aur Agar Kuch Nahin Do Phool Toh Dhar Jayenge.

Nahi Payega Nishan Koyi Hamara Hargiz,
Ham Jahan Se Ravish-E-Teer-E-Nazar Jayenge.

Pahuchenge Rahguzar-E-Yaar Talak Ham Kyun Kar,
Pehle Jab Tak Na Do Aalam Se Guzar Jayenge.

Hindi Shayari in English
Hindi Shayari in Englihs

Abhi Jameer Mein Thodi Si Jaan Baaki Hai,
Abhi Hamara Koyi Imtehaan Baaki Hai.

Hamare Ghar Ko To Ujde Huye Jamana Hua,
Magar Suna Hai Abhi Woh Makan Baaki Hai.

Hamari Unse Jo Thi Baat Woh Khatam Huyi,
Magar Khamosh Sa Kuchh Darmiyan Baaki Hai.

Hamare Jahan Ki Basti Mein Aag Aisi Lagi,
Ki Jo Tha Khak Hua Ik Dukan Baaki Hai.

Woh Zakhm Bhare Huye Arsa Hua Magar Ab Tak,
Jara Sa Dard Jara Sa Nishaan Baaki Hai,

Jara Si Baat Jo Faili Toh Dastan Ban Gayi,
Woh Baat Khatm Huyi Daastan Baaki Hai.

Hindi Shayari on Life

Din Ki Roshni Khwabon Ko Banane Mein Gujar Gayi,
Raat Ki Neend Bachche Ko Sulane Mein Gujar Gayi,
Jis Ghar Mein Mere Naam Ki Takhti Bhi Nahi Hai,
Saari Umar Uss Ghar Ko Banane Mein Gujar Gayi.

दिन की रोशनी ख्वाबों को सजाने में गुजर गई,
रात की नींद बच्चे को सुलाने मे गुजर गई,
जिस घर मे मेरे नाम की तखती भी नहीं,
सारी उमर उस घर को बनाने में गुजर गई।

Phool Isliye Achhe Hain Ki Khushbu Ka Paigam Dete Hain,
Kaante Islite Achhe Hai Ki Daaman Thaam Lete Hain,
Dost Isliye Achhe Hain Ki Woh Mujh Par Jaan Dete Hain,
Aur Dushmano Ko Main Kaise Kharab Keh Doon…
Woh Hi Toh Hain Ho Mehfil Mein Mera Naam Lete Hain.

फूल इसलिये अच्छे कि खुश्बू का पैगाम देते हैं,
कांटे इसलिये अच्छे कि दामन थाम लेते हैं,
दोस्त इसलिये अच्छे कि वो मुझ पर जान देते हैं,
और दुश्मनों को मैं कैसे खराब कह दूं…
वो ही तो हैं जो महफिल में मेरा नाम लेते हैं।

Agar Toote Kisi Ka Dil Toh Shab Bhar Aankh Roti Hai,
Ye Duniya Hai Gulon Ki Jism Mein Kaante Piroti Hai,
Hum Milte Hain Apne Gaanv Mein Dushman Se Bhi Ithhlakar,
Tumhara Shahar Dekha Toh Badi Takleef Hoti Hai.

अगर टूटे किसी का दिल तो शब भर आँख रोती है,
ये दुनिया है गुलों की जिस्म में काँटे पिरोती है,
हम मिलते हैं अपने गाँव में दुश्मन से भी इठलाकर,
तुम्हारा शहर देखा तो बड़ी तकलीफ होती है।

Hindi Shayari on Life old age
Hindi Shayari on Life Old Age

Sare Bajaar Niklun Toh Aawargi Ki Tohmat,
Tanhaayi Mein Baithhu Toh Ilzam-E-Mohabbat.

सरे बाज़ार निकलूं तो आवारगी की तोहमत,
तन्हाई में बैठूं तो इल्जाम-ए-मोहब्बत।

Na Shakhon Ne Di Panah, Na Hawaon Ne Bakhsha,
Woh Patta Aawara Na Banta Toh Aur Kya Karta.

ना शाखों ने पनाह दी,ना हवाओ ने बक्शा,
वो पत्ता आवारा ना बनता तो क्या करता।

Meri Aawargi Mein Kuchh Qasoor Tera Bhi Hai Sanam.
Jab Teri Yaad Aati Hai To Ghar Achha Nahi Lagta.

मेरी आवारगी में कुछ क़सूर तेरा भी है सनम,
जब तेरी याद आती है तो घर अच्छा नहीं लगता।

Kyun Meri Aawargi Pe Ungli Uthate Hain Zamane Wale,
Main Toh Aashiq Hun Dhoondhta Hun Wafa Nibhane Wale.

क्यूँ मेरी आवारगी पे ऊँगली उठाते हैं जमाने वाले,
मैं तो आशिक हूँ और ढूंढता हूँ वफ़ा निभाने वाले।

Ye Ishq Toh Marz Hi Burhape Ka Hai Dosto,
Jawani Mein Fursat Hi Kahan Aawargi Se.

ये इश़्क तो मर्ज़ ही बुढ़ापे का है दोस्तो,
जवानी में फुर्सत ही कहाँ आवारगी से।

Bahut Mushkil Hai Bajaara Mijaaji,
Saleeka Chahiye Janaab Aawargi Mein.

बहुत मुश्किल है बंजारा मिजाजी,
सलीका चाहिये जनाब आवारगी में।

Ghar Se Nikal Pade Hain Awaargi Uthaa Kar,
Humko Yahi Bahut Hai Asbaab Iss Safar Mein.

घर से निकल पड़े आवारगी उठा कर,
हमको यही बहुत है असबाब इस सफ़र में।

Ajeeb Mithaas Hai Mujh Gareeb Ke Khoon Me Bhi,
Jise Bhi Mauka Milta Hai Woh Peeta Zaroor Hai.

अजीब मिठास है मुझ गरीब के खून में भी,
जिसे भी मौका मिलता है वो पीता जरुर है।

Sula Diya Maa Ne Bhukhe Bachche Ko Ye Keh Kar,
Pariyan Aayengi Sapno Mein Rotiyan Lekar.

सुला दिया माँ ने भूखे बच्चे को ये कहकर,
परियां आएंगी सपनों में रोटियां लेकर।

Majbooriyan Haawi Ho Jayein Ye Jaroori Toh Nahi,
Thode Bahut Shauk Toh Gareebi Bhi Rakhti Hai.

मजबूरियाँ हावी हो जाएँ ये जरूरी तो नहीं,
थोडे़ बहुत शौक तो गरीबी भी रखती है।

Chehra Bata Raha Tha Ki Maara Hai Bhookh Ne,
Sab Log Kah Rahe The Ke Kuchh Kha Ke Mar Gaya.

चेहरा बता रहा था कि मारा है भूख ने,
सब लोग कह रहे थे कि कुछ खा के मर गया।

Woh Jinke Haath Mein Har Waqt Chhale Rehte Hain,
Aabad Unhi Ke Dam Par Mahal Wale Rehte Hain.

वो जिनके हाथ में हर वक्त छाले रहते हैं,
आबाद उन्हीं के दम पर महल वाले रहते हैं।

Bhatakti Hai Hawas Din-Raat Sone Ki Dukanon Par,
Gareebi Kaan Chhidwati Hai Tinke Daal Deti Hai.

भटकती है हवस दिन-रात सोने की दुकानों पर,
गरीबी कान छिदवाती है तिनके डाल देती है।

Jara Si Aahat Pe Jaag Jata Hai Woh Raaton Ko,
Ai Khuda Gareeb Ko Beti De Toh Darwaza Bhi De.

जरा सी आहट पर जाग जाता है वो रातो को,
ऐ खुदा गरीब को बेटी दे तो दरवाज़ा भी दे।

Jab Bhi Dekhta Hu Kisi Gareeb Ko Haste Hue,
Yakeenan Khusyion Ka Talluq Daulat Se Nahi Hota.

जब भी देखता हूँ किसी गरीब को हँसते हुए,
यकीनन खुशिओं का ताल्लुक दौलत से नहीं होता।

Sahem UthhTe Hain Kachche Makaan Paani Ke Khauf Se,
Mahalon Ki Aarzoo Yeh Hai Ke Barsaat Tej Ho.

सहम उठते हैं कच्चे मकान पानी के खौफ़ से,
महलों की आरज़ू ये है कि बरसात तेज हो।

Rukhi Roti Ko Bhi Baant Ke Khate Huye Dekha Maine,
Sadak Kinaare Woh Bhikhari Shanshah Nikla.

रुखी रोटी को भी बाँट कर खाते हुये देखा मैंने,
सड़क किनारे वो भिखारी शहंशाह निकला।

Yun Na Jhaanka Karo Kisi Gareeb Ke Dil Mein,
Wahan Hasratein BeLibaas Raha Karti Hain.

यूँ न झाँका करो किसी गरीब के दिल में,
वहाँ हसरतें बेलिबास रहा करती हैं।

Tehjeeb Ki Misaal Gareebon Ke Ghar Pe Hai,
Dupatta Fata Hua Hai Magar Unke Sar Pe Hai.

तहजीब की मिसाल गरीबों के घर पे है,
दुपट्टा फटा हुआ है मगर उनके सर पे है।

Kaise Mohabbat Karun Bahut Gareeb Hun Sahab,
Log Bikte Hain Aur Main Khareed Nahi Pata.

कैसे मोहब्बत करूं बहुत गरीब हूँ साहब,
लोग बिकते हैं और मैं खरीद नहीं पाता।

Unn Gharo Mein Jahan Mitti Ke Gharhe Rehte Hain,
Kad Mein Chhote Magar Log Bade Rahte Hain.

उन घरों में जहाँ मिट्टी के घड़े रहते हैं,
क़द में छोटे हों मगर लोग बड़े रहते हैं।

Yeha Gareeb Ko Marne Ki Jaldi Yun Bhi Hai,
Ke Kahin Kafan Mahenga Na Ho Jaye.

यहाँ गरीब को मरने की जल्दी यूँ भी है,
कि कहीं कफ़न महंगा ना हो जाए।

Kuchh Dard Kuchh Nami Kuchh Batein Judayi Ki,
Gujar Gaya Khayalon Se Teri Yaad Ka Mausam.

कुछ दर्द कुछ नमी कुछ बातें जुदाई की,
गुजर गया ख्यालों से तेरी याद का मौसम।

Kabhi Tuta Nahi Dil Se Teri Yaad Ka Rishta,
Guftgu Ho Na Ho Khayal Tera Hi Rehta Hai.

कभी टूटा नहीं दिल से तेरी याद का रिश्ता,
गुफ्तगू हो न हो ख्याल तेरा ही रहता है।

Tasbir Mein Khayal Hona To Lazmi Sa Hai,
Magar Ek Tasbir Hai Jo Khayalo Se Bani Hai.

तस्वीर में ख्याल होना तो लाज़मी सा है,
मगर एक तस्वीर है, जो ख्यालों में बनी है।

Jis Dam Khayal-e-Nargis-e-Mastana Aata Hai,
Badi Mushkil Se Kabu Mein Dil-e-Diwana Aata Hai.

मुझे जिस दम खयाले-नर्गिसे-मस्ताना आता है,
बड़ी मुश्किल से काबू में दिले-दीवाना आता है।

Peete Peete Jab Bhi Aaya Teri Aankho Ka Khayal,
Maine Apne Haath Se Tode Hain Paimane Bahut.

पीते-पीते जब भी आया तेरी आंखों का खयाल,
मैंने अपने हाथ से तोड़े हैं पैमाने बहुत।

Roj Aata Hai Mere Dil Ko Tasalli Dene
Khayaal E-Yaar Ko Mera Khyaal Yaar Ko Kitna Hai.

रोज़ आता है मेरे दिल को तस्सली देने
ख़याल ऐ यार को मेरा खयाल कितना है।

Aane Laga Hayat Ko Anjam Ka Khayal,
Jab Aarjuyen Failkar Ik Daam Ban Gayin.

आने लगा हयात को अंजाम का खयाल,
जब आरजूएं फैलकर इक दाम बन गईं।

Hindi Shayari Sad

Teri Chahato Mein Ruswa Sare Bajar Ho Gaye,
Humne Hi Dil Khoya Hum Hi Gunahgar Ho Gaye.

तेरी चाहत में रुसवा यूँ सरे बाज़ार हो गये,
हमने ही दिल खोया और हम ही गुनहगार हो गये।

Jamaane Bhar Ki Ruswayian Aur Bechain Raatein,
Aye Dil Kuchh To Bata Ye Mazraa Kya Hai?

जमाने भर की रुसवाईयाँ और बेचैन रातें,
ऐ दिल कुछ तो बता ये माजरा क्या है।

Khulta Kisi Pe Kya Mere Dil Ka Muamla,
Shayaron Ke Intekhab Ne Ruswa Kiya Mujhe.

खुलता किसी पे क्या मेरे दिल का मामला,
शायरों के इन्तिखाब ने रुसवा किया मुझे।

Hindi Shayari Sad
Hindi Shayari Sad

Kuchh Kami Reh Gayi Hai Shayad Meri Ruswaiyon Mein,
Tujhse Se Fir Main Dil Lagana Chahta Hoon.

कुछ कमी रह गयी है शायद मेरी रुसवाइयों में,
तुझसे से फिर मैं दिल लगाना चाहता हूँ।

Na Kar Dil Ajaari, Na Ruswa Kar Mujhe,
Jurm Bata, Saja Suna Aur Kissa Khatm Kar.

ना कर दिल अजारी, ना रुसवा कर मुझे,
जुर्म बता, सज़ा सुना और किस्सा खत्म कर।

Phir Usi Ki Yaad Mein Dil Beqarar Hua Hai,
Bichhad Ke Jis Se Huyi Shahar Shahar Ruswayi.

फिर उसी की याद में दिल बेक़रार हुआ है,
बिछड़ के जिस से हुयी शहर शहर रुसवाई।

Kaise Kah Dun Ki Mujhe Chhod Diya Hai Usne,
Baat Toh Sach Hai Magar Baat Hai Ruswayi Ki.

कैसे कह दूँ कि मुझे छोड़ दिया है उसने,
बात तो सच है मगर बात है रुसवाई की।

Apni Ruswai Tere Naam Ka Charcha Dekhun,
Ek Jara Sher Kahun Aur Main Kya Kya Dekhun.

अपनी रुसवाई तेरे नाम का चर्चा देखूं,
एक जरा शेर कहूँ और मैं क्या क्या देखूं।

Kya Mila Tumko Mere Ishq Ka Charcha Karke,
Tum Bhi Ruswa Huye Akhir Mujhe Ruswa Kar Ke.

क्या मिला तुम को मेरे इश्क़ का चर्चा कर के,
तुम भी रुस्वा हुए आख़िर मुझे रुस्वा कर के।

Teri Saason Ki Aahat Ko Bhi Pehchanta Hun Main,
Mujhe Ruswa Kare Tu Iski Gunjaish Kahan Hai Ab.

तेरी साँसों की आहट को भी जब पहचानता हूँ मैं,
मुझे रुसवा करे तू इसकी गुंजाइश कहाँ है अब।

Kuchh Iss Tarah Se Ruswa Kar Diya Usne Mujhe,
Ke Saans Bhi Na Ruki Aur Maut Bhi Aa Gayi.

कुछ इस तरह से रुसवा कर दिया उसने मुझे,
कि साँस भी न रुकी और मौत भी आ गई।

Hindi Shayari God Khuda

Wohi Rakhega Mere Ghar Ko Balaaon Se Mehfooz,
Jo Shajar Se Ghosla Girne Nahin Deta.

वही रखेगा मेरे घर को बलाओं से महफूज,
जो शजर से घोसला गिरने नहीं देता।

Hawa Khilaaf Thi Lekin Chirag Bhi Khoob Jala,
Khuda Bhi Apne Hone Ka Kya Kya Saboot Deta Hai.

हवा खिलाफ थी लेकिन चिराग भी खूब जला,
खुदा भी अपने होने का क्या क्या सबूत देता है।

Ehsas-E-Nidaamat, Ek Sajda Aur Chashm-E-Tar,
Ai Khuda Kitna Aasaan Hai Mananaa Tujh Ko.

एहसास-ए-निदामत, एक सजदा और चश्म-ए-तर,
ऐ खुदा कितना आसान है मनाना तुझ को।

Khuda Ko Bhool Gaye Log Fikr-E-Rozi Mein,
Talaash Rizq Ki Hai Raaziq Ka Khayaal Nahi.

खुदा को भूल गए लोग फ़िक्र-ए-रोज़ी में,
तलाश रिज्क की है राजिक का ख़याल नहीं।

Mohabbat Kar Sakte Ho To Khuda Se Karo,
Mitti Ke Khilono Se Kabhi Wafa Nahi Milti.

मोहब्बत कर सकते हो तो खुदा से करो,
मिट्टी के खिलौनों से कभी वफ़ा मिलती नहीं।

Ek Muddat Ke Baad Hum Ne Yeh Jaana Ai Khuda,
Ishq Teri Zaat Se Sacha Hai, Baki Sab Afsane.

एक मुद्दत के बाद हम ने ये जाना ऐ खुदा,
इश्क तेरी ज़ात से सच्चा है वाकी सब अफसाने।

Karam Jab Aala-e-Nabi Ka Shareek Hota Hai,
Bigad Bigad Kar Har Kaam Thheek Hota Hai.

करम जब आला-ए-नबी का शरीक होता है
बिगड़ बिगड़ कर हर काम ठीक होता है।

Na Tha Koi Humara Na Hum Kisi Ke Hain,
Bus Ek Khuda Hai Aur Hum Usi Ke Hain.

न था कोई हमारा न हम किसी के हैं,
बस एक खुदा है और हम उसी के हैं।

Mit Jaaye Gunaahon Ka Tasawur Hi Jahan Se,
Agar Ho Jaye Yakeen Ke Khuda Dekh Raha Hai.

मिट जाये गुनाहों का तसव्वुर ही जहां से,
अगर हो जाये यकीन के खुदा देख रहा है।

Aadam Ko Mat Khuda Kaho Aadam Khuda Nahi,
Lekin Khuda Ke Noor Se Aadam Juda Nahi.

आदम को मत खुदा कहो आदम खुदा नही,
लेकिन खुदा के नूर से आदम जुदा नहीं।

Jahan Sajde Ko Man Aaya Wahin Kar Liya Sajda,
Na Koi Sange-Dar Apna Na Koi Aastan Apna.

जहाँ सजदे को मन आया वहीं कर लिया सजदा,
न कोई संगे-दर अपना न कोई आस्तां अपना।

Tifl-e-SheerKhwar Ko Jyon-Jyon Shaoor Ho Chala,
Jitna Khuda Ke Paas Tha Utna Hi Dur Ho Chala.

तिफ्ल-ए-शीरख्वार को ज्यों-ज्यों शऊर हो चला,
जितना खुदा के पास था उतना ही दूर हो चला।

Tera Karam Toh Aam Hai Duniya Ke Vaste,
Main Kitna Le Saka Yeh Muqaddar Ki Baat Hai.

तेरा करम तो आम है दुनिया के वास्ते,
मैं कितना ले सका यह मुकद्दर की बात है।

Mujhko Khwahish Hi Dhundhne Ki Na Thi,
Mujh Mein Khoya Raha Khuda Mera.

मुझ को ख़्वाहिश ही ढूढ़ने की न थी,
मुझ में खोया रहा ख़ुदा मेरा।

Kashtiyan Sab Ki Kinare Pe Pahuch Jati Hain,
Na-Khuda Jinka Nahi Unka Khuda Hota Hai.

कश्तियाँ सब की किनारे पे पहुँच जाती हैं,
ना-ख़ुदा जिनका नहीं उनका ख़ुदा होता है।

Gunah Gin Ke Main Kyun Apne Dil Ko Chhota Karun,
Suna Hai Tere Karam Ka Koi Hisaab Nahi.

गुनाह गिन के मैं क्यूँ अपने दिल को छोटा करूँ,
सुना है तेरे करम का कोई हिसाब नहीं।

Khuda Aaj Bhi Hai Zamin Par Yeh Mujhko Yakeen,
Bas Usko Dekhne Wali Nigaah Chahiye.

खुदा आज भी है ज़मीं पर ये मुझको यकीं,
बस उसको देखने वाली निगाह चाहिए।

Saleeka Hi Nahi Shayad Usey Mahsoos Karne Ka,
Jo Kehta Hai Khuda Hai To Najar Aana Jaroori Hai.

सलीका ही नहीं शायद उसे महसूस करने का,
जो कहता है ख़ुदा है तो नजर आना जरूरी है।

Dua Baarish Ki Karte Ho Magar Chhatri Nahi Rakhte,
Bharosha Hai Nahi Tumko Khuda Par Kya Jara Sa Bhi.

दुआ बारिश की करते हो मगर छतरी नहीं रखते,
भरोसा है नहीं तुमको खुदा पर क्या जरा सा भी।

Ibaadat Khano Mein Kya Dhoondhte Ho Mujhe,
Main Wahan Bhi Hun, Jahan Tum Gunaah Karte Ho.

इबादतखानों में क्या ढूंढते हो मुझे,
मैं वहाँ भी हूँ, जहाँ तुम गुनाह करते हो।

Rehmat Teri Mohtaj Hai Mere Gunaahon Ki,
Mere Bina Tu Bhi Khuda Ho Nahi Sakta.

रहमत तेरी मोहताज है मेरे गुनाहों की,
मेरे बिना तू भी खुदा हो नहीं सकता।

Hindi Shayari Faraz

Ab Maayoos Kyun Ho Uss Ki Bewafai Pe Faraz,
Tum Khud Hi To Kehte The Ki Wo Sabse Juda Hai.

अब मायूस क्यूँ हो उस की बेवफाई पे फ़राज़,
तुम खुद ही तो कहते थे कि वो सबसे जुदा है।

In Baarishon Se Dosti Acchi Nahi Faraz,
Kaccha Tera Maqaan Hai Kuch To Khayal Kar.

इन बारिशों से दोस्ती अच्छी नहीं फराज,
कच्चा तेरा मकाँ है कुछ तो ख्याल कर।

Aankh Se Door Na Ho Dil Se Utar Jaayega,
Waqt Ka Kya Hai Guzarta Hai Guzar Jaayega.

Hindi Shayari Status
Hindi Shayari Status

आँख से दूर न हो दिल से उतर जायेगा,
वक़्त का क्या है गुजरता है गुजर जायेगा।

Tumhari Ek Nigah Se Qatal Hote Hain Log Faraz,
Ek Nazar Hum Ko Bhi Dekh Lo Ke Tum Bin Zindagi Achhi Nahi Lagti.

तुम्हारी एक निगाह से क़त्ल होते हैं लोग फ़राज़,
एक नजर हमको भी देख लो कि तुम बिन जिंदगी अच्छी नहीं लगती।

Kuch Muhabbat Ka Nasha Tha Pehle Humko Faraz,
Dil Jo Toota To Nashe Se Muhabbat Ho Gayi.

कुछ मोहब्बत का नशा था पहले हमको फ़राज़,
दिल जो टूटा तो नशे से मोहब्बत हो गयी।

Cheekhein Bhi Yehan Koyi Gaur Se Sunta Nahi Koi Faraz,
Are, Kis Shahar Mein Tum Sher Sunaane Chale Aaye.

चीखें भी यहाँ गौर से सुनता नहीं कोई फ़राज़,
अरे, किस शहर में तुम शेर सुनाने चले आये।

Silsile Tod Gaya Woh Sabhi Jaate-Jaate,
Varna Itne Toh Marasim The Ki Aate-Jaate.

सिलसिले तोड़ गया वो सभी जाते-जाते,
वरना इतने तो मरासिम थे कि आते जाते।

Shikwa-e-Zulmat-e-Shab Se Toh Kahin Behtar Tha,
Apne Hisse Ki Koi Shamma Jalaate Jaate.

शिकवा-ए-जुल्मते-शब से तो कहीं बेहतर था,
अपने हिस्से की कोई शम्मा जलाते जाते।

Kitna Aasaan Tha Tere Hijr Mein Marna Janaa,
Phir Bhi Ek Umr Lagi Jaan Se Jaate Jaate.

कितना आसाँ था तेरे हिज्र में मरना जाना,
फिर भी इक उम्र लगी जान से जाते-जाते।

Jashn-e-Maqtal Hi Na Barpa Hua Varna Hum Bhi,
Pa Bajola Hi Sahi Naachte Gaate Jaate.

जश्न-ए-मक़्तल ही न बरपा हुआ वरना हम भी,
पा बजोलां ही सही नाचते-गाते जाते।

Uski Woh Jaane Use Paas-e-Wafa Tha Ki Na Tha,
Tum Faraz Apni Taraf Se Toh Wafa Nibhate Jaate.

उसकी वो जाने उसे पास-ए-वफ़ा था कि न था,
तुम फ़राज़ अपनी तरफ से तो निभाते जाते।

Hindi Shayari Majboori

Kya Gila Karein Teri Majboorion Ka Hum,
Tu Bhi Insaan Hai Koyi Khuda To Nahin,
Mera Waqt Jo Hota Mere Minasib,
Majbooriyon Ko Bech Kar Tera Dil Khareed Leta.

क्या गिला करें तेरी मजबूरियों का हम,
तू भी इंसान है कोई खुदा तो नहीं,
मेरा वक़्त जो होता मेरे मुनासिब,
मजबूरिओं को बेच कर तेरा दिल खरीद लेता।

Kyun Karte Ho Wafa Ka Sauda,
Apni Majbooriyon Ke Naam Par?
Main Ab Bhi Woh Hi Hoon,
Jo Tere Liye Jamaane Se Lada Tha.

क्यूँ करते हो वफ़ा का सौदा,
अपनी मजबूरिओं के नाम पर?
मैं तो अब भी वो ही हूँ,
जो तेरे लिए जमाने से लड़ा था।

Majboorian Odh Ke Nikalata Hu
Ghar Se Aaj Kal,
Varna Shauk To Aaj Bhi Hai
Baariso Me Bheegne Ka.

मजबूरियॉ ओढ़ के निकलता हूं
घर से आजकल,
वरना शौक तो आज भी है
बारिशों में भीगनें का।

Kitne Majboor Hain Hum
Pyar Ke Hathon,
Na Tujhe Pane Ki Oukaat,
Na Tujhe Khone Ka Hausla.

कितने मजबूर हैं हम
प्यार के हाथों,
ना तुझे पाने की औकात,
ना तुझे खोने का हौसला।

Phir Yun Hua Ki Jab Bhi
Jarurat Padi Mujhe,
Har Shakhs Ittefaq Se
Majboor Ho Gaya.

फिर यूँ हुआ कि जब भी
जरुरत पड़ी मुझे,
हर शख्स इत्तफाक से
मजबूर हो गया।

Hindi Shayari Masoomiyat

Kya Bayaan Karein Teri Masoomiyat Ko Shayari Mein Hum,
Tu Lakh Gunaah Kar Le Saja Tujhko Nahi Milni.

क्या बयान करें तेरी मासूमियत को शायरी में हम,
तू लाख गुनाह कर ले सजा तुझको नहीं मिलनी।

Dam Tod Deti Hai Har Shikayat, Labo Pe Aakar,
Jab Masoomiyat Se Woh Kehti Hai, Maine Kiya Kya Hai?

दम तोड़ जाती है हर शिकायत, लबों पे आकर,
जब मासूमियत से वो कहती है, मैंने क्या किया है?

Likh Du Kitaab Teri Masoomiyat Par Fir Dar Lagta Hai,
Kahi Har Koyi Tera Talabgar Na Ho Jaye.

लिख दूं किताबें तेरी मासूमियत पर फिर डर लगता है,
कहीं हर कोई तेरा तलबगार ना हो जाये।

Mujh Mein Khushboo Basi Usi Ki Hai,
Jaise Ye Zindgi Usi Ki Hai.

मुझ में ख़ुशबू बसी उसी की है,
जैसे ये ज़िंदगी उसी की है।

Wo Kahin Aas Paas Hai Mauzood,
Hu-Ba-Hu Yeh Hasee Usi Ki Hai.

वो कहीं आस-पास है मौजूद,
हू-ब-हू ये हँसी उसी की है।

Khud Main Apna Dukha Raha Hoon Dil,
Iss Mein Lekin Khushi Usi Ki Hai.

ख़ुद में अपना दुखा रहा हूँ दिल,
इस में लेकिन ख़ुशी उसी की है।

Yaani Koyi Kami Nahi Mujh Mein,
Yaani Mujh Mein Kami Usi Ki Hai.

यानी कोई कमी नहीं मुझ में,
यानी मुझ में कमी उसी की है।

Kya Mere Khwab Bhi Nahi Mere,
Kya Meri Neend Bhi Usi Ki Hai?

क्या मेरे ख़्वाब भी नहीं मेरे,
क्या मेरी नींद भी उसी की है?

Hindi Shayari Ehsaas

Yeh Mat Puchh Ke Ehsaas Ki Shiddat Kya Thi,
Dhoop Aisi Thi Ki Saaye Ko Bhi Jalte Dekha.

ये मत पूछ के एहसास की शिद्दत क्या थी,
धूप ऐसी थी के साए को भी जलते देखा।

Itni Chaahat Ke Baad Bhi Tujhe Ehsaas Na Hua,
Jara Dekh Toh Le Dil Ki Jagah Patthar Toh Nahi.

इतनी चाहत के बाद भी तुझे एहसास ना हुआ,
जरा देख तो ले दिल की जगह पत्थर तो नहीं।

Takleef Mit Gayi Magar Ehsaas Reh Gaya,
Khush Hoon Ki Kuchh Na Kuchh To Mere Paas Reh Gaya.

तकलीफ़ मिट गई मगर एहसास रह गया,
ख़ुश हूँ कि कुछ न कुछ तो मेरे पास रह गया।

Jagna Bhi Kabool Hai Teri Yaadon Mein Raat Bhar,
Tere Ehsaason Mein Jo Sukoon Hai Woh Neid Mein Kahan.

जागना भी कबूल है तेरी यादों में रात भर,
तेरे एहसासों में जो सुकून है वो नींद में कहाँ।

Wajood Sheeshe Ka Ho Toh Pattharon Se Mohabbat Nahi Karte,
Ehsaas-e-Chahat Na Mile Toh Hasti Bikhar Jati Hai.

वजूद शीशे का हो तो पत्थरों से मोहब्बत नहीं करते,
एहसास-ए-चाहत ना मिले तो हस्ती बिखर जाती है।

Kitna Pyar Hai Tumse Woh Lafzon Ke Sahare Kaise Bataun,
Mahsoos Kar Mere Ehsaas Ko Gawahi Kahan Se Laaun.

कितना प्यार है तुमसे वो लफ़्ज़ों के सहारे कैसे बताऊँ,
महसूस कर मेरे एहसास को गवाही कहाँ से लाऊं।

Yeh Kaisi Roshni Hai Ke Ehsaas Bujhh Gaya,
Har Aankh Puchhti Hai Ke Manzar Kahan Gaye.

ये कैसी रोशनी है कि एहसास बुझ गया​​,
​हर आँख पूछती है कि मंज़र कहाँ गए​​।

Ehsaas-E-Mohabbat Ke Liye Bas Itna Hi Kaafi Hai,
Tere Bagair Bhi Hum Tere Hi Rahte Hain.

एहसास-ए-मुहब्बत के लिए बस इतना ही काफी है,
तेरे बगैर भी हम, तेरे ही रहते हैं।

Apni Halat Ka Khud Ehsaas Nahi Mujhko,
Maine Auron Se Suna Hai Ki Pareshan Hun Main.

अपनी हालात का ख़ुद अहसास नहीं मुझको,
मैंने औरों से सुना है कि परेशान हूं मैं।

Mere Liye Ehsaas Mayne Rakhta Hai,
Rishte Ka Naam Chalo Tum Rakh Lo.

मेरे लिए अहसास मायने रखता है,
रिश्ते का नाम चलो तुम रख लो।

Aye Khuda Log Banaye The Patthar Ke Agar,
Mere Ehsaas Ko Sheeshe Ka Na Banaya Hota.

ऐ खुदा लोग बनाये थे पत्थर के अगर,
मेरे एहसास को शीशे का न बनाया होता।

Apne Hontho Pe Sajana Chahata Hu,
Aa Tujhe Main Gungunana Chahata Hu,

अपने होंठों पर सजाना चाहता हूँ,
आ तुझे मैं गुन गुनाना चाहता हूँ।

Koyi Aanshu Tere Daman Par Gira Kar,
Boond Ko Moti Banana Chahata Hu,

कोई आँसू तेरे दामन पर गिरा कर,
बूँद को मोती बनाना चाहता हूँ।

Thak Gaya Hu Karte Karte Yaad Tujhko,
Ab Tujhe Main Yaad Aana Chahata Hu,

थक गया मैं करते करते याद तुझको,
अब तुझे मैं याद आना चाहता हूँ।

Jo Bana Vaayas Meri Naqamiyo Ka,
Main Usi Ke Kaam Aana Chahata Hu,

Hindi Shayari Images
Hindi Shayari Image

जो बना वायस मेरी नाकामियों का,
मैं उसी के काम आना चाहता हूँ।

Chha Raha Hai Saari Basti Pe Andhera,
Roshani Ko Ghar Jalana Chahata Hu,

छा रहा है सारी वस्ती पे अँधेरा,
रौशनी को घर जलाना चाहता हूँ।

Phool Se Paikar To Nikale Be-Murabbat,
Main Pattharo Ko Aazmana Chahata Hu,

फूल से पैकर तो निकले बे-मुरब्बत,
मैं पत्थरों को आज़माना चाहता हूँ।

Rah Gayi Thi Kuchh Kami Ruswayio Me,
Fir Qateel Us Dar Pe Jana Chahata Hu,

रह गयी थी कुछ कमी रुसवायिओं में,
फिर क़तील उस दर पे जाना चाहता हूँ।

Aakhiri Hichaki Tere Jaane Pe Aaye,
Maut Bhi Main Shayarana Chahata Hu!

आखिरी हिचकी तेरे जाने पे आये,
मौत भी मैं शायराना चाहता हूँ।

Shama Parwana Hindi Shayari

Kitne Parwaane Jale Raaz Yeh Paane Ke Liye,
Shama Jalne Ke Liye Hai Ya Jalaane Ke Liye.

कितने परवाने जले राज़ ये पाने के लिए,
शमां जलने के लिए हैं या जलाने के लिए।

Kisi Ko Pyar Ka Matlab Bas Itna Sa Samjhana,
Shama Ke Paas Jakar Ke Parwane Ka Jal Jana.

किसी को प्यार का मतलब बस इतना सा समझाना,
शमा के पास जाकर के परवाने का जल जाना।

Shama Bujha Ke Raat Der Talak Mehfil Sajai Humne,
Main Apne Dil Ko Rota Raha Aur Yeh Dil Tere Liye.

शमा बुझा के रात देर तलक महफ़िल सजाई हमने,
मैं अपने दिल को रोता रहा और ये दिल तेरे लिए।

Garmi-e-Shama Ka Afsaana Sunaane Walo,
Raqs Dekha Nahi Tumne Abhi Parwane Ka.

गर्मी-ए-शम्मा का अफसाना सुनाने वालो,
रक्स देखा नहीं तुमने अभी परवाने का।

Ho Gaya Dher Wahin Aah Bhi Nikli Na Koi,
Jaane Kya Baat Kahi Shama Ne Parwane Se.

हो गया ढेर वहीं आह भी निकली न कोई,
जाने क्या बात कहीं शमाँ ने परवाने से।

Hai Shiddat-e-Khulus Bhi Ik Jurm-e-Aashiqi,
Parwana Jal Ke Shama Ko Badnaam Kar Gaya.

है शिद्दत-ए-खुलूस भी इक जुर्मे-आशिकी,
परवाना जल के शमाँ को बदनाम कर गया।

Rukh-e-Roshan Ke Aage Shama Rakhkar Wo Yeh Kahte Hain,
Udhar Jata Hai Dekhein Ya Idhar Aata Hai Parwana.

रूख-ए-रौशन के आगे शमाँ रखकर वो ये कहते है,
उधर जाता है देखें या इधर आता है परवाना

Yeh Kahke Aakhire-Shab Shama Ho Gayi Khamosh,
Kisi Ki Zindgi Lene Se Zindgi Na Mili.

यह कहके आखिरे-शब शमाँ हो गई खामोश,
किसी की जिंदगी लेने से जिंदगी न मिली।

Fanaa Hone Se Soj-e-Shama Ki MinnatKashi Kaisi,
Jale Jo Aag Mein Apni Use Parwana Kahte Hain.

फना होने में सोज-ए-शमाँ की मिन्नतकशी कैसी,
जले जो आग में अपनी उसे परवाना कहते हैं।

Ishq Kya Cheej Hai Yeh Puchhiye Parwane Se,
Zindgi Jisko Mayassar Huyi Mar Jaane Ke Baad.

इश्क क्या चीज है यह पूछिये परवाने से,
जिंदगी जिसको मयस्सर हुई मर जाने के बाद।

Aashiqo Mein Aur Uska Naam Roshan Ho Gaya,
Shama Ne Socha Tha Mit Jayega Parwane Ka Naam.

आशिकों में और उसका नाम रौशन हो गया,
शमाँ ने सोचा था मिट जायेगा परवाने का नाम।

Bin Jale Shama Ke Parwana Jal Nahi Sakta,
Kya Kare Ishq Agar Husn Ki Sabkat Na Kare.

बिन जले शमा के परवाना जल नहीं सकता,
क्या करे इश्क अगर हुस्न की सबकत न करे।

Jo Kismat Mein Jalna Hi Tha Toh Shama Hote,
Ke Puchhe Toh Jaate Kisi Anjuman Mein Hum.

जो किस्मत में जलना ही था तो शमा होते,
कि पूछे तो जाते किसी अंजुमन में हम।

Kuchh Rishte Umr Bhar Agar Benaam Rahen Toh Achchha Hai,
Aankho Aankho Me Hi Kuchh Paigaam Rahe Toh Achchha Hai.

कुछ रिश्ते उम्र भर अगर बेनाम रहे तो अच्छा है,
आँखों आँखों में ही कुछ पैगाम रहे तो अच्छा है,

Suna Hai Manzil Milte Hi Uski Chahat Mar Jaati Hai,
Gar Yeh Sach Hai Toh Fir Hum Naakam Rahen Toh Achchha Hai.

सुना है मंज़िल मिलते ही उसकी चाहत मर जाती है,
गर ये सच है तो फिर हम नाकाम रहें तो अच्छा है,

Jab Mera Humdum Hi Mere Dil Ko Na Pahchhan Saka,
Aisi Duniya Mein Hum Gum-Naam Rahein Toh Achchha Hai.

जब मेरा हमदम ही मेरे दिल को न पहचान सका,
फिर ऐसी दुनिया में हम गुमनाम रहे तो अच्छा है।

Aankho Se Mere Isliye Laali Nahi Jati,
Yaadon Se Koyi Raat Khaali Nahi Jati.

आँखों से मेरे इस लिए लाली नहीं जाती,
यादों से कोई रात खा़ली नहीं जाती।

Ab Na Umr Na Mausam Na Raste Ke Wo Patte,
Iss Dil Ki Magar Khaam-Khayali Nahi Jati.

अब उम्र ना मौसम ना रास्ते के वो पत्ते,
इस दिल की मगर ख़ाम ख्याली नहीं जाती।

Maage Tu Agar Jaan Bhi Toh Hans Ke Tujhe De Du,
Teri Toh Koyi Baat Bhi Taali Nahi Jati.

माँगे तू अगर जान भी तो हँस कर तुझे दे दूँ,
तेरी तो कोई बात भी टाली नहीं जाती।

Maloom Hamein Bhi Hain Bahut Se Tere Kisse,
Par Baat Teri Humse Uchhali Nahi Jati.

मालूम हमें भी हैं बहुत से तेरे क़िस्से,
पर बात तेरी हमसे उछाली नहीं जाती।

Humraah Tere Phool Khilaati Thi Jo Dil Mein,
Ab Shaam Wohi Dard Se Khali Nahi Jati.

हमराह तेरे फूल खिलाती थी जो दिल में,
अब शाम वहीं दर्द से ख़ाली नहीं जाती।

Hum Jaan Se Jayenge Tabhi Baat Banegi,
Tumse Toh Koyi Baat Nikaali Nahi Jati.

हम जान से जाएंगे तभी बात बनेगी,
तुमसे तो कोई बात निकाली नहीं जाती।

New Hindi Shayari

Zara Si Der Me Dilkash Najara Doob Jayega,
Ye Sooraj Dekhna Saare Ka Saara Doob Jayega.

ज़रा-सी देर में दिलकश नज़ारा डूब जायेगा,
ये सूरज देखना सारे का सारा डूब जायेगा,

Na Jaane Fir Bhi Kyu Sahil Pe Tera Naam Likhte Hain,
Hamein Maloom Hai Ek Din Kinara Doob Jayega.

न जाने फिर भी क्यों साहिल पे तेरा नाम लिखते हैं,
हमें मालूम है इक दिन किनारा डूब जायेगा,

Safeena Ho Ke Ho Patthar Hain Hum Anzaam Se Waqif,
Tumhara Tair Jayega Humara Doob Jayega.

सफ़ीना हो के हो पत्थर, हैं हम अंज़ाम से वाक़िफ़,
तुम्हारा तैर जायेगा हमारा डूब जायेगा,

Samandar Ke Safar Me Kismate Pahloo Badalti Hain,
Agar Tinke Ka Hoga To Sahara Doob Jayega.

समन्दर के सफर में किस्मतें पहलू बदलती हैं,
अगर तिनके का होगा तो सहारा डूब जायेगा,

Misaalen De Rahe The Log Jiski Kal Talak Humko,
Kise Maloom Tha Wo Bhi Sitara Doob Jaayega!

मिसालें दे रहे थे लोग जिसकी कल तलक हमको,
किसे मालूम था वो भी सितारा डूब जायेगा।

Badi Tabdiliyan Laya Hu
Main Apne Aap Me Lekin,
Bas Tumko Yaad Karne Ki,
Wo Aadat Ab Bhi Baaki Hai!

बड़ी तब्दीलियां लाया हूँ
मैं अपने आप में लेकिन,
बस तुमको याद करने की
वो आदत अब भी वाकी है।

Chhorh To Sakta Hu Magar
Chhorh Nahi Paata Use,
Wo Shakhs Meri Bigadi Huyi
Aadat Ki Tarah Hai!

छोड़ तो सकता हूँ मगर
छोड़ नहीं पाता उसे,
वो शख्स मेरी बिगड़ी हुई
आदत की तरह है।

Har Ek Baat Pe Kehate Ho Tum Ki Tu Kya Hai,
Tum Hi Kaho Ki Ye Andaaz-E-Guftgu Kya Hai.

हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है,
तुम्ही कहो कि ये अंदाजे-गुफ्तगू क्या है।

Na Shole Mein Ye Karishma Na Vark Mein Ye Adaa,
Koyi Batao Ki Woh Shokhe-Tund-Khoo Kya Hai.

न शोले में ये करिश्मा न बर्क में ये अदा,
कोई बताओ कि वो शोखे-तुंद-ख़ू क्या है।

Ye Rashk Hai Ki Woh Hota Hai HumSukhan Tumse,
Vargana Khaufe-Bad-Amojiye-Adoo Kya Hai.

ये रश्क है कि वो होता है हमसुखन तुमसे,
वरगना खौफे-बद-अमोजिए-अदू क्या है।

Ragon Mein Daudte Phirane Ke Hum Nahi Qaayal,
Jab Aankh Hi Se Na Tapka To Phir Lahoo Kya Hai.

रगों में दौड़ते रहने के हम नहीं कायल,
जब आँख से न टपका तो फिर लहू क्या है।

Chipak Raha Hai Badan Par Lahoo Se Pairaahan,
Hamari Jeb Ko Ab Haajat-E-Rafoo Kya Hai.

चिपक रहा है बदन लहू से पैरहन,
हमारी जेब को अब हाजते-रफू क्या है।

Jalaa Hain Jism Jahaan, Dil Bhii Jal Geya Hoga,
Kuredte Ho Jo Ab Raakh, Justajuu Kya Hai.

जला है जिस्म जहाँ दिल भी जल गया होगा,
कुरेदते हो जो अब राख, जुस्तजू क्या है।

Bana Hai Shah Ka Musahib, Fire Hai Itrata,
Vargana Shahar Mein Ghalib Ki Aabroo Kya Hai.

बना है शह का मुसाहिब, फिरे है इतराता,
वगरना शहर में ग़ालिब कि आबरू क्या है.

Kadam Do Char Chalta Hoon,
Muqaddar Rooth Jata Hai,
Har Ek Umeed Se Rishta,
Humara Toot Jata Hai,
Zamane Ko Sambhalu Gar,
To Tum Se Door Hota Hoon,
Tera Daman Sambhalu To,
Zamana Chhoot Jata Hai!

कदम दो चार चलता हूँ,
मुकद्दर रूठ जाता है,
हर इक उम्मीद से
रिश्ता हमारा टूट जाता है,
जमाने को सम्भालूँ गर
तो तुमसे दूर होता हूँ,
तेरा दामन सम्भालूँ तो,
जमाना छूट जाता है।

Nigaaho Ke Takaaje
Chain Se Marne Nahi Dete,
Yahan Manjar Hi Aise Hain
Ke Dil Bharne Nahi Dete,
Kalam Main To Utha Kar
Jaane Kab Ka Rakh Chuka Hota,
Magar Tum Ho Ke Kissa
Mukhtsar Karne Nahi Dete!

निगाहों के तक़ाज़े
चैन से मरने नहीं देते,
यहाँ मंज़र ही ऐसे हैं
कि दिल भरने नहीं देते,
क़लम मैं तो उठा कर
जाने कब का रख चुका होता,
मगर तुम हो कि क़िस्सा
मुख़्तसर करने नहीं देते।

Jab Mujhse Mohabbat Hi Nahi Toh Rokte Kyu Ho?
Tanhayi Mein Mere Baare Mein Sochte Kyun Ho?
Jab Manzilein Hi Juda Hain Toh Jaane Do Mujhe…
Laut Ke Kab Aaoge Yeh Poochhte Kyun Ho?

जब मुझसे मोहब्बत ही नहीं तो रोकते क्यूँ हो?
तन्हाई में मेरे बारे में सोचते क्यूँ हो?
जब मंजिलें ही जुदा हैं तो जाने दो मुझे…
लौट के कब आओगे ये पूछते क्यूँ हो?

Woh Jamana Gujar Gaya Kab Ka,
Tha Jo Deewana Mar Gaya Kab Ka.

वो जमाना गुजर गया कब का,
था जो दीवाना मर गया कब का।

Dhundhta Tha Jo Ek Nayi Duniya,
Laut Ke Apne Ghar Gaya Kab Ka.

ढूंढता था जो एक नयी दुनिया,
लौट के वो अपने घर गया कब का।

Woh Jo Laya Tha Humko Dariya Tak,
Paar Akele Utar Gaya Kab Ka.

वो जो लाया था हमको दरिया तक,
पार अकेले उतर गया कब का।

Uska Jo Haal Hai Wohi Jaane,
Apna To Jakham Bhar Gaya Kab Ka.

उसका जो हाल है वो ही जाने,
अपना तो ज़ख्म भर गया कब का।

Khwab Dar Khwab Tha Jo Tana-Bana,
Ab Kahan Hai Bikhar Gaya Kab Ka.

ख्वाब दर ख्वाब था जो ताना-बाना,
अब कहाँ है बिखर गया कब का।

Hindi Shayari on Bachpan (Childhood)

Jhooth Bolte The Phir Bhi Kitne Sachche The Hum,
Yeh Un Dino Ki Baat Hai Jab Bachche The Hum.

झूठ बोलते थे फिर भी कितने सच्चे थे हम,
ये उन दिनों की बात है जब बच्चे थे हम।

Sukoon Ki Baat Mat Kar Aye Dost,
Bachpan Wala Itwaar Ab Nahi Aata.

सुकून की बात मत कर ऐ दोस्त,
बचपन वाला इतवार अब नहीं आता।

Koyi Mujhko Lauta De Wo Bachpan Ka Sawan,
Woh Kagaj Ki Kashti, Wo Barish Ka Paani.

कोई मुझको लौटा दे वो बचपन का सावन,
वो कागज की कश्ती वो बारिश का पानी।

Zindagi Phir Kabhi Na Muskurai Bachpan Ki Tarha,
Maine Mitti Bhi Jama Ki Khilone Bhi Lekar Dekhe.

जिंदगी फिर कभी न मुस्कुराई बचपन की तरह,
मैंने मिट्टी भी जमा की खिलोने भी लेकर देखे।

Bachpan Mein Toh Shaamein Bhi Hua Karti Thi,
Ab Toh Bas Subah Ke Baad Raat Ho Jaati Hai.

बचपन में तो शामें भी हुआ करती थी,
अब तो बस सुबह के बाद रात हो जाती है।

Der Tak Hansta Raha Unn Par Humara Bachpana,
Jab Tajurbe Aaye The Sanjeeda Banaane Ke Liye.

देर तक हँसता रहा उन पर हमारा बचपना,
जब तजुर्बे आए थे संजीदा बनाने के लिए।

Aur Toh Kuchh Nahi Badla Umr Barhne Ke Saath,
Bachpan Ki Jo Jid Thi Samjhauto Mein Badal Gayi.

और तो कुछ नहीं बदला उम्र बढ़ने के साथ,
बचपन की जो ज़िद थी समझौतों में बदल गई।

Kagaz Ki Kashti Thi Pani Ka Kinara Tha,
Khelne Ki Masti Thi Dil Ye Awara Tha,
Kaha Aa Gye Samajhdari Ke Daldal Mein,
Wo Nadaan Bachpan Hi Pyara Tha.

काग़ज़ की कश्ती थी पानी का किनारा था,
खेलने की मस्ती थी ये दिल अवारा था,
कहाँ आ गए इस समझदारी के दलदल में,
वो नादान बचपन भी कितना प्यारा था।

Bachpan Ke Din Kitne Achhe Hote The,
Tab Dil Nahi Sirf Khilone Tuta Karte The,
Ab To Ek Aansu Tak Bhi Bardaasht Nahi Hota,
Aur Bachpan Mein Jee Bharkar Roya Karte The.

बचपन के दिन भी कितने अच्छे होते थे,
तब दिल नहीं सिर्फ खिलौने टूटा करते थे,
अब तो एक आंसू भी बर्दाश्त नहीं होता,
और बचपन में जी भरकर रोया करते थे।

Hindi Shayari on Dushmani

Karein Hum Dushmani Kis Se, Koyi Dushman Nahi Apna,
Mohabbat Ne Nahi Chhodi, Jagah Dil Mein Adaawat Ki.

करें हम दुश्मनी किससे, कोई दुश्मन नहीं अपना,
मोहब्बत ने नहीं छोड़ी, जगह दिल में अदावत की।

Dushmani Ka Safar Ek Kadam Do Kadam,
Tum Bhi Thak Jaoge, Hum Bhi Thak Jayenge.

दुश्मनी का सफ़र एक कदम दो कदम,
तुम भी थक जाओगे, हम भी थक जाएंगे।

Dushmani Jam Ke Karo Par Itni Gunjaish Rahe,
Kal Jo Hum Dost Ban Jayein To Sharminda Na Ho.

दुश्मनी जम के करो पर इतनी गुंजाईश रहे,
कल जो हम दोस्त बन जाये तो शर्मिंदा न हो।

Bina Maqsad Bahut Mushkil Hai Jeena,
Khuda Aabaad Rakhna Dushmano Ko Mere.

बिना मकसद बहुत मुश्किल है जीना​,
खुदा आबाद रखना दुश्मनों को​ मेरे।​

Meri Narajgi Par Hak Mere Ahbaab Ka Hai Bas,
Bhala Dushman Se Bhi Koi Kabhi Naraj Hota Hai.

मेरी नाराज़गी पर हक़ मेरे अहबाब का है बस,
भला दुश्मन से भी कोई कभी नाराज़ होता है।

Aise Bigde Ke Phir Zafa Bhi Na Ki,
Dushmani Ka Haq Adaa Bhi Na Hua.

ऐसे बिगड़े कि फिर जफ़ा भी न की,
दुश्मनी का भी हक अदा न हुआ।

Ek Bhi Mauka Na Do Jo Dost Hain Dushman Banein,
Dushmano Ko Laakh Mauke Do Tumhare Ho Sakein.

एक भी मौका न दो जो दोस्त हैं दुश्मन बनें,
दुश्मनों को लाख मौके दो तुम्हारे हो सकें।

Aankhon Se Aansuon Ke Do Katre Kya Nikal Pade
Mere Saare Dushman Ekdum Khushi Se Uchhal Pade.

आँखों से आँसुओं के दो कतरे क्या निकल पड़े,
मेरे सारे दुश्मन एकदम खुशी से उछल पडे़।

Jis Khat Pe Ye Lagai Usee Ka Mila Jawaab,
Ik Mohar Mere Paas Hai Dushman Ke Naam Ki.

जिस खत पे ये लगाई उसी का मिला जवाब,
इक मोहर मेरे पास है दुश्मन के नाम की।

Dushmani Laakh Sahi Ḳhatm Na Kiije Rishta,
Dil Mile Ya Na Mile Haath Milate Rahiye.

दुश्मनी लाख सही खत्म न कीजिये रिश्ता,
दिल मिले या न मिले हाथ मिलाते रहिये।

Hindi Shayari on Takdeer

Chubhta To Bahut Kuchh Hai Mujhe Teer Ki Tarah,
Magar Khamosh Rehta Hoon Apni Takdeer Ki Tarah.

चुभता तो बहुत कुछ मुझको भी है तीर की तरह,
मगर ख़ामोश रहता हूँ, अपनी तक़दीर की तरह।

Upar Wale Ne Kitne Logo Ki Takdeer Sanwari Hai,
Kash Woh Ek Bar Mujhe Bhi Kah De Ke Aaj Teri Bari Hai.

ऊपर वाले ने कितने लोगो की तक़दीर सवारी है,
काश वो एक बार मुझे भी कह दे कि आज तेरी बारी है।

Likhi Khuda Ne Mohabbat Sabki Takdeer Mein,
Jab Hamari Bari Aayi To Syahi Khatm Ho Gayi.

लिखी खुदा ने मोहब्बत सबकी तक़दीर में,
हमारी बारी आई तो स्याही ही ख़त्म हो गई।

Takdeer Banane Wale Tumne Toh Koi Kami Nahi Ki,
Ab Kisko Kya Mila Yeh Muqaddar Ki Baat Hai.

तकदीर बनाने वाले तुमने तो कोई कमी नहीं की,
अब किसको क्या मिला ये मुकद्दर की बात है।

Kisi Ja Gard Mein Moti Kahi Hai Gard Moti Mein,
Teri Raahon Ko Aye Takdeer Maine Khoob Chhana Hai.

किसी जा गर्द में मोती कहीं है गर्द मोती में
तेरी राहों को ऐ तकदीर मैंने खूब छाना हैं।

Tere Daaman Mein Gulistaan Bhi Hain Veerane Bhi,
Mera Haasil Meri Takdeer Bataa De Mujhko.

तेरे दामन में गुलिस्तां भी है वीराने भी,
मेरा हासिल मेरी तकदीर बता दे मुझको।

Sitare Kuchh Batate Hain Nateeja Kuchh Nikalta Hai,
Badi Hairat Mein Hain Meri Hatheli Ko Dekhne Wale.

सितारे कुछ बताते हैं नतीजा कुछ निकलता है,
बड़ी हैरत में हैं मेरी हथेली को देखने वाले।

Dekh Mera Naseeb Meri Taqdeer Rone Lagi,
Lahu Ke Alfaaz Dekh Tehreer Rone Lagi,
Tere Hijar Me Diwane Ki Haalat Aisi Huyi,
Surat Dekh Kar Khud Tasveer Rone Lagi.

देख कर मेरा नसीब मेरी तक़दीर रोने लगी,
लहू के अल्फाज़ देख कर तहरीर रोने लगी,
हिज्र में दीवाने की हालत कुछ ऐसी हुई,
सूरत को देख कर खुद तस्वीर रोने लगी।

Bhale Hi Kisi Ghair Ki Jaagir Thi Woh,
Par Mere Khwabon Ki Tasveer Thi Woh,
Mujhe Milti To Kaise Milti,
Kisi Aur Ke Hisse Ki Taqdeer Thi Woh.

भले किसी ग़ैर की जागीर थी वो,
पर मेरे ख्वाबों की तस्वीर थी वो,
मुझे मिलती तो कैसी मिलती,
किसी और के हिस्से की तकदीर थी वो।

Fark Hota Hai Khuda Aur Fakeer Mein,
Fark Hota Hai Kismat Aur Lakeer Mein,
Agar Kuchh Chaho Aur Na Mile Toh Samajh Lena,
Ke Kuchh Aur Achha Likha Hai Takdeer Mein.

फर्क होता है खुदा और फ़क़ीर में,
फर्क होता है किस्मत और लकीर में,
अगर कुछ चाहो और न मिले तो समझ लेना,
कि कुछ और अच्छा लिखा है तक़दीर में।

Tamannao Ki Mehfil To Har Koyi Sajata Hai,
Puri Uski Hoti Hai Jo Takdeer Lekar Aata Hai.

तमन्नाओ की महफ़िल तो हर कोई सजाता है,
पूरी उसकी होती है जो तकदीर लेकर आता है।

Kabhi Jo Mujhe Haq Mila Apni Takdeer Likhne Ka,
Kasam Khuda Ki Tera Naam Likh Kar Kalam Tor Dunga.

कभी जो मुझे हक मिला अपनी तकदीर लिखने का
कसम खुदा की तेरा नाम लिख कर कलम तोड दूंगा।

Kuchh Iss Tarah Bunenge Hum Apni Takdeer Ke Dhaage,
Ki Achchhe Achchho Ko Jhukna Padega Humare Aage.

कुछ इस तरह बुनेंगे हम अपनी तकदीर के धागे,
कि अच्छे अच्छो को झुकना पड़ेगा हमारे आगे।

Kitne Majboor Hain Hum Takdeer Ke Aage,
Na Tumhen Paane Ki Aukat Rakhte Hain
Aur Na Tumhen Khone Ka Hausala.

कितने मज़बूर है हम तकदीर के आगे…
ना तुम्हे पाने की औकात रखते हैं और
ना तुम्हे खोने का हौसला।

Mere Hi Haathon Pe Likhi Hai Taqdeer Meri,
Aur Meri Hi Taqdeer Par Mera Bas Nahi Chalta.

मेरे ही हाथों पे लिखी है तकदीर मेरी,
और मेरी ही तकदीर पर मेरा बस नहीं चलता।

Afsos To Hai Tumhare Badal Jane Ka Magar,
Tumhari Kuchh Baton Ne Mujhe Jeena Sikha Diya!

अफ़सोस तो है तुम्हारे बदल जाने का मगर,
तुम्हारी कुछ बातों ने मुझे जीना सिखा दिया।

Rakhte The Hontho Pe Ungliya Jo Marne Ke Naam Se,
Afsos Wahi Log Mere Dil Ke Qatil Nikle.

रखते थे होठों पे उंगलियां जो मरने के नाम से,
अफसोस वही लोग मेरे दिल के कातिल निकले।

Main Fanaa Ho Gaya Afsos Woh Badla Bhi Nahi,
Meri Chahato Se Bhi Sacchi Rahi Nafrat Uski.

मैं फना हो गया अफसोस वो बदला भी नहीं,
मेरी चाहतों से भी सच्ची रही नफरत उसकी।

Uski Aankhon Mein Najar Aata Hai Sara Jahan Mujhko,
Afsos Ke Unn Aankhon Mein Kabhi Khud Ko Nahi Dekha.

उसकी आँखों में नज़र आता है सारा जहां मुझ को,
अफ़सोस कि उन आँखों में कभी खुद को नहीं देखा।

Gam Nahi Ke Tum Bewafa Nikli,
Magar Afsos Iss Baat Ka Hai,
Wo Sab Log Sach Nikle,
Jinse Main Tere Liye Lada Tha.

गम नही कि तुम बेवफा निकली,
मगर अफ़सोस इस बात का है,
वो सब लोग सच निकले,
जिनसे मैं तेरे लिए लड़ा था।

Mujhe Kuch Afsos Nahi Ke Mere Paas
Sab Kuch Hona Chahiye Tha,
Main Us Waqt Bhi Muskurata Tha
Jab Mujhe Rona Chahiye Tha.

मुझे कुछ अफ़सोस नहीं के मेरे पास
सब कुछ होना चाहिए था,
मै उस वक़्त भी मुस्कुराता था
जब मुझे रोना चाहिए था।

Hosh Walon Ko Khabar Kya Bekhudi Kya Cheej Hai,
Ishq Keeje Phir Samjhiye Zindgi Kya Cheej Hai.

Unse Najrein Kya Mili Roshan Fizayein Ho Gayin,
Aaj Jana Pyaar Ki Jadoogari Kya Cheej Hai.

Khulti Zulfon Ne Sikhayi Mausamo Ko Shayari,
Jhukti Aakhon Ne Bataya Maiqasi Kya Cheej Hai.

Hum Labo Se Keh Na Paye Unse Haal-e-Dil Kabhi,
Aur Woh Samjhe Nahi Yeh Khamoshi Kya Cheej Hai.

होश वालों को खबर क्या बेखुदी क्या चीज है,
इश्क कीजे फिर समझिये, जिन्दगी क्या चीज है।

उनसे नजरें क्या मिली, रोशन फिजायें हो गयी,
आज जाना प्यार की जादूगरी क्या चीज है।

खुलती जुल्फों ने सिखाई, मौसमो को शायरी,
झुकती आँखों ने बताया, मयकशी क्या चीज है।

हम लबों से कह ना पाए, उन से हाल-ए-दिल कभी,
और वो समझे नहीं, ये खामोशी क्या चीज है।

Hum To Har Baar Mohabbat Se Sadaa Dete Hain,
Aap Sunte Hain Aur Sun Ke Bhula Dete Hain.

Aise Chubhte Hain Teri Yaad Ke Khanjar Mujhko,
Bhool Jaaun Jo Kabhi Yaad Dila Dete Hain.

Zakhm Khate Hain Teri Shokh Nigahon Se Bahut,
Khubsoorat Se Kayi Khwaab Sajaa Lete Hain.

Tod Dete Hain Har Ek Mod Pe Dil Mera,
Aap Kya Khoob Wafaon Ka Sila Dete Hain.

Dosti Ko Koyi Unwaan To Dena Hoga,
Rang Kuchh Is Pe Mohabbat Ka Chada Dete Hain.

Talkhi-E-Ranj-E-Mohabbat Se Pareshaan Hokar,
Mere Aanshu Tujhe Hansne Ki Dua Dete Hain.

Haath Aata Nahi Kuchh Bhi To Andheron Ke Siwa,
Kyun Sare Shaam Yun Hi Dil Ko Jala Lete Hain.

Hum To Har Baar Mohabbat Ka Gumaan Karte Hain,
Wo Har Ek Baar Mohabbat Se Daga Dete Hain.

Dum Bhar Ko Thahrana Meri Fitrat Na Samjhna,
Hum Jo Chalte Hain To Toofan Utha Dete Hain.

Aapko Apni Mohabbat Bhi Kabhi Raas Nahi Aati,
Hum To Nafrat Ko Bhi Aankho Se Laga Lete Hain.

हम तो हर बार मोहब्बत से सदा देते हैं,
आप सुनते हैं और सुनके भुला देते हैं,

ऐसे चुभते हैं तेरी याद के खंजर मुझको,
भूल जाऊं जो कभी याद दिला देते हैं,

ज़ख्म खाते हैं तेरी शोख निगाहों से बहुत,
खूबसूरत से कई ख्वाब सजा लेते हैं,

तोड़ देते हैं हर एक मोड़ पे दिल मेरा,
आप क्या खूब वफाओं का सिला देते हैं,

दोस्ती को कोई उन्वान तो देना होगा,
रंग कुछ इस पे मोहब्बत का चढा देते हैं,

तल्खी-ए-रंज-ए-मोहब्बत से परीशां होकर,
मेरे आंसू तुझे हंसने की दुआ देते हैं,

हाथ आता नही कुछ भी तो अंधेरों के सिवा,
क्यूँ सरे शाम यूँ ही दिल को जला लेते हैं,

हम तो हर बार मोहब्बत का गुमा करते हैं,
वो हर एक बार मोहब्बत से दगा देते हैं,

दम भर को ठहरना मेरी फितरत न समझना,
हम जो चलते हैं तो तूफ़ान उठा देते हैं,

आपको अपनी मोहब्बत भी नही रास आती,
हम तो नफरत को भी आंखों से लगा लेते हैं।

Apne Haathon Ki Lakeero Mein Basa Le Mujhko,
Main Hoon Tera Naseeb Apna Bana Le Mujhko!

Mujhse Tu Puchhne Aaya Hai Wafa Ke Mayane,
Yeh Teri Sada-Dili Maar Na Daale Mujhko!

Khud Ko Main Baant Na Dadu Kahi Daman Daman,
Kar Diya Tune Agar Mere Hawaale Mujhko!

Badah Fir Badah Hai Main Zahar Bhi Jaaun ‘Qateel’,
Shart Ye Hai Koyi Baahon Me Sambhale Mujhko!

अपने हाथों की लकीरों में बसा ले मुझको
मैं हूँ तेरा तो नसीब अपना बना ले मुझको।

मुझसे तू पूछने आया है वफ़ा के माने
ये तेरी सादा-दिली मार ना डाले मुझको।

ख़ुद को मैं बाँट ना डालूँ कहीं दामन-दामन
कर दिया तूने अगर मेरे हवाले मुझको।

बादाह फिर बादाह है मैं ज़हर भी पी जाऊँ ‘क़तील’
शर्त ये है कोई बाहों में सम्भाले मुझको।

Aanko Mein Raha Dil Mein Utar Kar Nahi Dekha,
Kashti Ke Musafir Ne Samandar Nahi Dekha.

Bewaqt Agar Jaaunga Toh Sab Chauk Padenge,
Ek Umra Huyi Din Mein Kabhi Ghar Nahi Dekha.

Jis Din Se Chala Hu Meri Manzil Pe Nazar Hai,
Aankho Ne Kabhi Meel Ka Patthar Nahi Dekha.

Yeh Phool Mujhe Koyi Virasat Mein Nahi Mile,
Tumne Mera Kaanto Bhara Bistar Nahi Dekha.

Patthar Mujhe Kahta Hai Mera Chahne Wala,
Main Mom Hu Usne Mujhe Chhookar Nahi Dekha.

आँखों में रहा दिल में उतरकर नहीं देखा,
कश्ती के मुसाफ़िर ने समन्दर नहीं देखा।

बेवक़्त अगर जाऊँगा, सब चौंक पड़ेंगे,
इक उम्र हुई दिन में कभी घर नहीं देखा।

जिस दिन से चला हूँ मेरी मंज़िल पे नज़र है,
आँखों ने कभी मील का पत्थर नहीं देखा।

ये फूल मुझे कोई विरासत में नहीं मिले,
तुमने मेरा काँटों-भरा बिस्तर नहीं देखा।

पत्थर मुझे कहता है मेरा चाहने वाला,
मैं मोम हूँ उसने मुझे छूकर नहीं देखा।

Baat Uljhi Si Lagti Hai Magar Tum Yoon Kehna,
Log Kuchh Bhi Kahein, Tum Aag Ko Paani Kehna,

Jakham Khaye Jo Dil Ne, Pyar Ki Nishani Kehna,
Dard Mile Kaanton Se, Phoolon Ki Zubani Kehna,

Bujhaye Aag, Aag Se Jo, Uss Aag Ko Jawani Kehna,
Mitakar Pyas Jo Rahe Pyasi, Uss Ko Deewani Kehna,

Jise Peekar Hosh Ho Baaki, Uss Mai Ko Paani Kehna,
Behke Jo Aankhon Se Pee Ke, Use Husn Ki Mehrawani Kehna.

बात उलझी सी लगती है मगर तुम यूँ कहना,
लोग कुछ भी कहें तुम आग को पानी कहना,

जख्म खाए जो दिल ने प्यार की निशानी कहना,
दर्द मिले काँटों से फूलों की जुवानी कहना,

बुझाये आग आग से जो उस आग को जवानी कहना,
मिटाकर प्यास जो रहे प्यासी उसे दीवानी कहना,

जिसे पीकर होश हो बाकी उस मय को पानी कहना,
बहके जो आँखों से पी के उसे हुस्न की मेहरवानी कहना।

Hindi Shayari Quotes

Falsafa Samjho Na Asraar-e-Siyasat Samjho,
Zindagi Sirf Hakiqat Hai Hakiqat Samjho,
Jaane Kis Din Hon Hawayein Bhi Neelam Yahan,
Aaj To Saans Bhi Lete Ho Ghaneemat Samjho.

फलसफा समझो न असरारे सियासत समझो,
जिन्दगी सिर्फ हकीक़त है हकीक़त समझो,
जाने किस दिन हो हवायें भी नीलाम यहाँ,
आज तो साँस भी लेते हो ग़नीमत समझो।

Samjhne Hi Nahi Deti Siyasat Hum Ko Sachchai,
Kabhi Chehra Nahi Milta Kabhi Darpan Nahi Milta.

समझने ही नहीं देती सियासत हम को सच्चाई,
कभी चेहरा नहीं मिलता कभी दर्पन नहीं मिलता।

Kaanton Se Gujar Jata Hoon Daaman Ko Bachakar,
Phoolon Ki Siyasat Se Main BeGana Nahi Hoon.

काँटों से गुजर जाता हूँ दामन को बचा कर,
फूलों की सियासत से मैं बेगाना नहीं हूँ।

Bulandi Ka Nasha Simton Ka Jaadoo Tod Deti Hai,
Hawa Udate Huye Panchhi Ke Baajoo Tod Deti Hai,
Siyaasi Bhediyo Thhodi Bahut Ghairat Jaroori Hai,
Tawayaf Bhi Kisi Mauke Pe Ghunghroo Tod Deti Hai.

बुलंदी का नशा सिमतों का जादू तोड़ देती है,
हवा उड़ते हुए पंछी के बाज़ू तोड़ देती है,
सियासी भेड़ियों थोड़ी बहुत गैरत ज़रूरी है,
तवायफ तक किसी मौके पे घुंघरू तोड़ देती है।

Siyasat Iss Kadar Aawam Pe Ehsaan Karti Hai,
Aankhein Chheen Leti Hai Fir Chashme Daan Karti Hai.

सियासत इस कदर अवाम पे अहसान करती है,
आँखे छीन लेती है फिर चश्में दान करती है।

Ai Siyasat Tu Ne Bhi Iss Daur Mein Kamal Kar Diya,
Gareebon Ko Gareeb Ameeron Ko Maala-Maal Kar Diya.

ऐ सियासत तूने भी इस दौर में कमाल कर दिया,
गरीबों को गरीब अमीरों को माला-माल कर दिया।

Lade, Jhagde, Bhide, Kaate-Katein Shamsheer Ho Jayein,
Batein, Baantein, Chubhein Ek Doosre Ko Teer Ho Jayein,
Musalsal Qatl-o-Gaarat Ki Nayi Tasvir Ho Jayein,
Siyasat Chahti Hi Hum Aur Tum Kashmir Ho Jayein.

लड़ें, झगड़ें, भिड़ें, काटें, कटें, शमशीर हो जाएँ,
बटें, बाँटें, चुभे इक दुसरे को, तीर हो जाएँ,
मुसलसल कत्ल-ओ-गारत की नई तस्वीर हो जाएँ,
सियासत चाहती है हम और तुम कश्मीर हो जाएँ।

Siyasat Ko Lahoo Peene Ki Aadat Hai,
Varna Mulk Mein Sab Khairiyat Hai.

सियासत को लहू पीने की लत है,
वरना मुल्क में सब ख़ैरियत है।

Ek Aansoo Bhi Hukoomat Ke Liye Khatra Hai,
Tum Ne Dekha Nahi Aankhon Ka Samundar Hona.

एक आँसू भी हुकूमत के लिए ख़तरा है,
तुम ने देखा नहीं आँखों का समुंदर होना।

Siyasat Ki Dukaano Mein Roshni Ke Liye,
Jaroori Hai Ke Mulk Mera Jalta Rahe.

सियासत की दुकानों में रोशनी के लिए,
जरूरी है कि मुल्क मेरा जलता रहे।

Inn Se Umeed Na Rakh Hain Ye Siyasat Wale,
Ye Kisi Se Bhi Mohabbat Nahi Karne Wale.

इन से उम्मीद न रख हैं ये सियासत वाले,
ये किसी से भी मोहब्बत नहीं करने वाले।

Leave a Comment